बिना पूंछ वाली लोमड़ी की कहानी | A Fox Without a Tail Story in Hindi

A Fox Without a Tail Story in Hindi

A Fox Without a Tail Story in Hindi

एक दिन एक लोमड़ी बाहर घूम रही थी और अचानक बड़ी जोर से आवाज हुई। फिर उसने अपने पिछले भाग में दर्द महसूस किया‌। लोमड़ी ने पीछे मुड़कर देखा की उसकी पूंछ फंदे में फंस गई है। उसनू पूंछ को निकालने की बहुत कोशिश की लेकिन पूंछ फंदे में फंस गई थी‌‌।

आखिर बहुत कोशिश करने के बाद लोमड़ी ने उसे निकालने के लिए जोड़ लगाया और पूंछ निकल गयी। लोमड़ी चिल्लाई और उसने पीछे मुड़कर देखा की उसकी आधी पूंछ फंदे में ही फंसी हुई हैं। ये देख लोमड़ी रोने लगी और वहां से चली गई।

लोमड़ी सोचने लगी और आखिर में उसे एक तरकीब मिली, उसने सारे लोमड़ी को मीटिंग के लिए बुलाया और कहां ‘अरे जानते हो मैंने जान बूझकर अपनी पूंछ काट दी हैं और मैं चाहती हूं की तुम लोग भी वैसे ही करों। देखिए लम्बे पूंछ के फायदे से ज्यादा नुकसान हैं।

अरे जब कुत्ते हमारे पीछे दौड़ते हैं तो पूंछ रास्ते में आ जाती है और जब हम चर्चा करने के लिए जमा होते हैं तो आप नहीं जानते हैं की उसका क्या करें? क्या आप उसे अपने पैरों में बांध लेते हैं? या उसपर बैठते हैं? या कोई और उसपर पैर रखने के लिए छोड़ देते हैं?

अब आप सभी के लिए समय हैं की सभी इस फंदे से मुक्त हो जाओ और बिना पूंछ के समाज के साथ जुड़ जाओ’।

बाकी लोमड़ी ने कहा ‘यदि तुम्हारी पूंछ सुंदर होती तो तुम ये कभी ना कहती, तुम अपने फायदे के लिए कह रही हो क्योंकि तुम शर्मिंदा हो, सारी लोमड़ियां अपने गुच्छे दार पूंछ उसकी ओर उठाकर चली गयी।

सीख (A Fox without a Tail Moral Story)

इस कहानी से हमें ये सीख मिलती हैं की दूसरों को बुद्धू बनाना इतना आसान नहीं होता।


दोस्तों, यदि आपको A Fox without a Tail Story in Hindi कहानी पसंद आई हो, तो आप इसे शेयर कर सकते हैं। कृपया अपने कमेन्ट के माध्यम से बताएं कि आपको Fox Story in Hindi कैसी लगी? नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें। धन्यवाद


यह भी जरूर पढ़ें :-

 

Share on:

Leave a Comment