{हिंदी} Top 6+ Chiti Ki Kahani in Hindi with Moral

Chiti Ki Kahani in Hindi नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हमने यहां पर Chiti Ki Kahani शेयर की है। इन Ant in Hindi Story से आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा एंव जीवन में इसका महत्व समझ आएगा।

चींटी दिखने में काफी छोटे होते हैं लेकिन ये बहुत ही मेहनती होते हैं। इन छोटों जीवों के जीवन में चाहे कितनी भी कठिनाई आएं ये हार नहीं मानते हैं। आज हम यहां पर आपको इन्हीं मेहनती जीवों की Brave Ant Story in Hindi कहानी बताएंगे।

यहां पर हमने तरह-तरह के Top Ant Story in Hindi with Moral  शेयर की है। जो पढ़ने में छोटी लगेगी, पर इनके पीछे आपको एक अच्छी सीख मिलेगी। आपको इसे पुरा जरूर पढ़ना चाहिए।

Chiti Ki Kahani in Hindi

 

1. Chiti Ki Kahani in Hindi – हाथी और चींटी की कहानी ( Elephant and Ant Story in Hindi)

एक जंगल में एक हाथी रहता था। वह बहुत ही घमंडी था वे बाकी जानवरों को अपने सामने कुछ नहीं समझता था और उन्हें हमेशा खदेड़ दिया। एक दिन की बात हैं वे जंगल में घुम रहा था तो रास्ते में उसे पेड़ पर एक तोता दिखाई दिया।

हाथी बोला ‘अरे ओ तोते क्या कर रहे हो तुम्हें दिखता नहीं कौन आया हुआ है। मैं इस जंगल का सबसे ताकतवर जानवर हूं चलों मुझे झुक कर सलाम करो’।

तोता ‘ सलाम मैं क्यों करूं?’ हाथी ‘अच्छा नहीं करोगे मैं तुम्हें अभी अपने ताकत का मजा चखाता हूं’।

तोते ने हाथी को सलाम नहीं किया तो हाथी ने भी अपनी ताकत दिखाकर पूरा पेड़ ही गिरा दिया ताकि तोता इस पेड़ पर ना बैठ सके। तोता वहां से उड़ कर चला गया।

हाथी हर रोज पानी पीने जाता था। वहीं पास में एक छोटी सी गुफा थी। जहां एक चींटी रहती थी‌। वह हर रोज खाने का सामान इकट्ठा करती थी और हाथी हर रोज उसे परेशान किया करता था। आज भी कुछ ऐसा ही हुआ हाथी नदी किनारे पानी पी रहा था और उसने चींटी को देखा।

हाथी ने अपने सूंड में पानी भरा और चींटी के ऊपर डाल दिया जिससे चींटी पूरी तरह भिख गई। लेकिन चींटी ने गुस्सा नहीं किया, वहां से चली गयी‌ और मन ही मन हाथी से बदला लेने की सोचने लगी।

अगले दिन हाथी को सोता देख चींटी को एक तरकीब सुझी वो जल्दी से वहां गई और हाथी की सूंड में घुस गई और अंदर जाकर उसे काटने लगी। हाथी को दर्द हुआ तो नींद से जाग गया और चिल्लाने लगा।

चींटी उसे लगातार काटती रही और हाथी और जोर से चिल्लाने लगा। हाथी को ऐसा तड़पता देख चींटी सूंड से बाहर निकली हाथी चींटी को देखकर हैरान हो गया। वो इतना डर गया था की वो चींटी से मांफी मांगने लगा ताकि चींटी उसे दोबारा परेशान ना करें।

2. Chiti in Hindi – चींटी और आलसी टिड्डा (Grasshopper And Ant Story in Hindi)

एक समय की बात है गर्मी का मौसम था और टिड्डो का एक झुंड हल्की गर्मी ताजी हवा और हरे घास पर खुश रहा करते थे टिड्डे। एक दिन जब टिड्डे खेल रहे थे तो उन्होंने फलों और कुछ सब्जियों को चलते हुए देखा टिड्डे इनको देखकर हैरान रह गए।

टिड्डे के नेता को उन फलों और सब्जियों के पास कुछ आवाजें सुनाई दे रही थी‌। थोड़ा पास जाकर उन सभी ने देखा की असल में वे कुछ चींटीयां थी जो कुछ फलों और सब्जियों को अपने सिरों पर उठा ले जा रहे थे। सारा खाना लेकर अपने घरों पर चीटीयां खाना डाल रहे थे।

टिड्डा नेता और सारे टिड्डे चींटीयों पर हंसते रहे हर रोज चींटीयां अपना काम करते जा रहे थे, खाना जमाते रहे और टिड्डे बस इनका मजाक उड़ाने में थे। इसी प्रकार कुछ दिन बीत गये और गर्मी का मौसम भी खत्म होने को आ रहा था।

एक दिन कुछ टिड्डे रोज की तरह खाना खाते आराम कर रहे थे। गर्मी के मौसम में केवल खां-खां के सब आलसी और मोटे बन गए। आखिरकार ठंड का मौसम आ गया और आलसी मौटे टिड्डो के पास रहने के लिए कुछ भी नहीं था। ना पत्ते, ना झांरी, ना खाना, ना कोई रहने की जगह सबको याद आया की चींटीयों ने घर बनाएं थे।

बहुत सारा खाना भी जमा कर रखा था। सारे टिड्डे उस घर में घुसकर वहीं पर कब्जा कर बस गए अब सारे चींटीयां परेशान हो गए और अलग-अलग बिखर गई। चींटी ने समूह बनाएं और ठंड से बचने के लिए अपने दोस्तों के घर चले गए।

ठंड के मौसम समाप्त हो गया और फिर से गर्मी शुरू हो गई। चींटियां फिर भी खाना जमा करने के काम मैं लग गए। सब चींटियों ने निर्णय लिया टिड्डो को उनकी छत और भोजन पर कब्जा करने का मौका नहीं देंगे।

टिड्डो को गुमराह करने के लिए उनके पास थी एक योजना इस योजना के अनुसार कुछ चीटीयां सेना ने एक गुप्त जगह बनाई जहां पर वे खाना जमा कर रहे थे और साथ-साथ वहां कुछ पुराने चींटीयां खाना जमा करने का नाटक कर रही थी‌।

टिड्डे आराम से चींटीयों को देखकर सोच रहे थे की अब फिर से सर्दियों के मौसम में उनके खाने पर हमला कर देंगे। दोबारा आ गया ठंड के मौसम टिड्डे फिर से उस बिल में घुस गए अंदर जाते ही उन्होंने देखा की वहां कुछ था ही नहीं।

ठंड का मौसम अब उन्हें गुफा में बितानी पड़ी और चन पत्तों को खाकर जीवित रहना था। टिड्डे को एहसास हुआ की आलस्य की सजा मिल रही थी। जब वे गर्मी में बाहर निकले तो दुबले पतले और कमजोर पड़ गए थे।

कुछ पल और पत्तों को खाकर अपनी सेहत का ध्यान रखा पूरी तरह स्वास्थय होने के बाद टिड्डो ने खाना चबाने का काम शुरू कर दिया। ठंड का मौसम से बचने के लिए सबने झाड़ियों का घर भी बनाया था। आलसी टिड्डे जो एक समय पर लापरवाह थे अब चींटीयों की तरह मेहनती और बलवान बन गई।

3. Chiti in Hindi – लालची साँप और चींटी ( Snake And Ant Story in Hindi)

एक पेड़ के बिल पर एक सांप रहता था। वह मेंढक बत्तख और पक्षियों को खाता था। वह दिन में सोता और रात में शिकार करता था। कुछ दिन बाद वह सांप बड़ा हो गया और उस बिल पर ना घुस पाया तो उसने सोचा की अब वह अपना ठिकाना बदलेगा‌।

अपने नए घर की तालाश करते हुए उसे एक बरगद के पेड़ पर बड़ा सा बिल दिखा। उस पेड़ के नीचे चीटियों की पहाड़ी थी। साँप पेड़ के पास आया और बोला ‘अब से इस पेड़ पर मैं रहूंगा तुम सब को इस जगह से तुरंत जाना पड़ेगा’।

उस पेड़ के आसपास रहने वाले सभी जानवर और पंछी बहुत डर गए थे मगर चींटीयों को कुछ फर्क नहीं पड़ा था। वह पहाड़ी उन्होंने बहुत मेहनत से बनाई थी सभी चींटीयां एक जुट होकर आगे बड़ी, साँप को चारों तरफ से घेर लिया और उसे काटने लगी। सांप को बहुत दर्द हुआ और चिल्लाता हुआ वहां से भाग गया उसके बाद वह वहां पर कभी वापस नहीं आया। तभी से सारे जानवर और पक्षी वहां खुशी से रहने लगे।

4. Ant in Hindi – शेर और चींटी (Lion And Ant Story in Hindi) 

एक समय की बात है एक जंगल में शेर और चींटी रहते थे। वह दोनों कद काठी रंग रूप में बिल्कुल अलग थे। इसके बावजूद भी वह बहुत अच्छे दोस्त थे‌। एक दिन शेर ने बड़ी घमंड से चींटी से कहा तुम तो इतनी छोटी हो और मेरे किसी काम के भी नहीं हो लेकिन तुम्हें मेरी मदद की कभी जरूरत हो तो मुझे बताना…

यह बात सुनकर चींटी मन ही मन मुस्काई फिर एक दिन जंगल में एक मदमस्त हाथी घुस आया। यह देखकर शेर ने सोचा कि मैं तो जंगल का राजा हूं और मुझे सब को बचाने के लिए इस हाथी को मारना पड़ेगा और यहां से भागना पड़ेगा।

लेकिन वह हाथी तो बहुत ही मदमस्त था। उसने लड़ाई में शेर को हरा दिया। यह सब देखकर चींटी को बहुत गुस्सा आया और उसको एक तरकीब सूझी उसने सोचा कि क्यों ना मैं हाथी की सूंड में घुस जाऊं और उसने बिल्कुल ऐसा ही किया वे धीरे से जाकर हाथी के सूंड में घुस गई और हाथी के दिमाग की नस कुतर दी।

जिसके वजह से हाथी लड़खड़ाता हुआ जमीन पर गिर गया और वे तुरंत ही वहां मर गया।

सीख – हमें अपने आप पर कभी घमंड नहीं करना चाहिए।


हमें उम्मीद है की आपको हमारी Chiti Ki Kahani in Hindi पढ़ कर जरूर मजा आया होगा। यह Short Stories in HindiShort Hindi Kahaniyan न केवल बच्चों को पढ़ने में अच्छी लगती है बल्कि यह बड़े लोगों के मनोरंजन का साधन भी बनती है और हमें अपना गुजरा हुआ कल याद दिलाती है। यदि आपको हमारी कर्मों का फल कहानियाँ पसंद आयी हो तो आप हमकों इसके बारे में नीचे comment भी कर सकते है।


ये भी जरूर पढ़ें:

Share on:
Avatar

मुझे इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बारे में जानने और इसे लोगो के साथ शेयर करना अच्छा लगता है, मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हु। इसके अलावा मुझे अच्छी किताबें पढ़ने और लोगों को ऑब्ज़र्व करना भी अच्छा लगता है।

Leave a Comment