ईमानदार गाय और बाघ | Honest Cow and The Tiger Story in Hindi

Honest Cow and The Tiger Story in Hindi

Honest Cow and The Tiger Story in Hindi

एक गांव में एक गाय रहा करती थी‌। वह बहुत ही मिलनसार थी। एक दिन वह घास खा रही थी तभी एक बाघ की नजर उसपर पड़ गई। गाय को देखकर शेर का दिल ललचाने लगा‌ और उसने गाय पर हमला करने के लिए जैसे ही कदम बढ़ाया तो गाय ने कहा ‘ठहरिए मैरी बात आराम से सुनिए मेरा एक बच्चा है।

उसे पैदा हुए दो हफ्ते ही हुए है। उसे तो घास खाना भी नहीं आता वो मेरे वापस आने का इंतजार कर रहा है। आप मुझपर रहम करोगे तो मैं उसे भरपूर दूध पिलाकर और उसे दुनियादारी का सबक सिखाकर वापस आती हूं। उसके बाद आप मुझे खा लीजिए। मैं आपको मायूस नहीं करूंगी’।

बाघ- ये कैसी बात है घर जाकर अपने बच्चे को दूध पिलाकर तुम वापस आओगी। मैं जंगल में जरूर रहता हूं लेकिन बेवकूफ नहीं हूं।

गाय- तुम मुझे गलत मत समझना मैं कभी झूठ नहीं बोलती, एक बार वादा करने के बाद मैं उसपर कायम रहती हूं। यह हकीकत है कि मौत किसी-न-किसी दिन आनी है लेकिन मैं समझूंगी की मौत का वक्त आ चुका है। मैं तुम्हारी भूख नहीं मिटा सकी तो क्या काम की, ये बात भी सच्च है की मैं मौत से डरती नहीं तुम मेरे मासूम बच्चे के बारे में सोचा वैसे भी कल से उसे अपनी जिंदगी खुद जीनी है।

बाघ- तुम जानवरों के साथ रहती हूं मैं तुम्हारी बातों को कैसे मान लूं। जब इतना बोल रही हो तो ठीक है मैं भी देखना चाहता हूं की गांव में रहने वाले जानवरों में कितनी ईमानदारी होती हैं? जाओ जल्दी लौट आना..

गाय फौरन वहां से चली गई उसने अपने बच्चे को पेट भर दूध पिलाया और उसे बहुत प्यार किया और भरी हुई आवाज में कहने लगी ‘देखो बेटा होशियारी से जिदंगी गुजारना हर किसी के साथ अच्छी तरह से पैश आना किसी से वादा करो तो जरूर निभाना।

अपने बच्चे को अच्छी तरह समझाकर गाय अपने वादे को पूरा करने के लिए चल पड़ी। उधर गाय के इंतजार में बेचैन बाघ ने दूर से उसे आते देखा तो वो सोचने लगा ‘अरे ये गाय कितनी ईमानदार है जो वादा किया तो उसे पूरा करने के लिए वापस आ रही है। अपनी जान से ज्यादा उसे अपना वादा याद है। ऐसी ईमानदार गाय को मारने से मुझे गुनाह तो जरूर होगा।

गाय जब बाघ के पास पहुंची तो उसने कहा ‘तुम अजीब हो तुमने वादे को पूरा करने के लिए तुम मैरे पास वापस आ गई। मैंने तुमपर शक किया मैं माफी चाहता हूं। भूख मिटाने के लिए मैं कोई और इंतजाम कर लूंगा। तुम वापस अपने बच्चे के पास चली जाओ। गाय खुशी-खुशी घर चली गई और अपने बच्चे के साथ खुशी-खुशी रहने लगी।


दोस्तों, यदि आपको Honest Cow and The Tiger Story in Hindi कहानी पसंद आई हो, तो आप इसे शेयर कर सकते हैं। कृपया अपने कमेन्ट के माध्यम से बताएं कि आपको Honest Cow Story in Hindi कैसी लगी? नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें। धन्यवाद


Share on:
Avatar

मुझे इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बारे में जानने और इसे लोगो के साथ शेयर करना अच्छा लगता है, मैं एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हु। इसके अलावा मुझे अच्छी किताबें पढ़ने और लोगों को ऑब्ज़र्व करना भी अच्छा लगता है।

Leave a Comment